Politics

[politics][bleft]

Sports

[sports][twocolumns]

Health

[health][threecolumns]

खुशखबरी: RBI देगा नए साल पर आम आदमी को बड़ा तोहफा, ख़ुशी से उछल पड़ेगे आप.. पढ़ें पूरी खबर...

नई दिल्ली: आने वाले 1 जनवरी से कई बैंक लोन सस्ता कर सकते हैं। इससे कंज़ंप्शन को बढ़ावा मिलेगा, जिसकी ग्रोथ नोटबंदी के बाद काफी कम हो गई है।
- कैश की सप्लाई कम होने के चलते लोग गैर-जरूरी चीजों पर पैसे खर्च नहीं कर रहे हैं।


- रिपोर्ट्स के मुताबिक कार और होम लोन रेट्स में कमी की जा सकती है।

- कॉरपोरेट सेक्टर से लोन की मांग काफी कम है। ऐसे में बैंक कार और होम लोन रेट्स कम कर क्रेडिट ग्रोथ बढ़ाने की कोशिश करने जा रहे हैं।

- रिपोर्ट्स के मुताबिक इंडियन बैंक्स असोसिएशन की पिछले हफ्ते एक मीटिंग में कुछ बड़े बैंकों के सीईओ ने फाइनेंस मिनिस्ट्री से चर्चा के बाद इंट्रेस्ट रेट में कमी पर विचार किया। कुछ बैंकरों का मानना है कि इससे नोटबंदी के बाद कन्ज़्यूमर सेंटीमेंट को सुधारने में मदद मिलेगी। अभी एसबीआई का एक साल के लिए लेंडिंग रेट 8.90 पर्सेंट हैजो सभी बैंकों से कम है। हालांकिइस पूरे मामले में सेविंग बैंक रेट में कमी के आसार भी दिख रहे हैं।

- सेविंग रेट के लिए कोई रेगुलेटरी नियम नहीं हैलेकिन ज्यादातर बैंकों ने इसे 4 पर्सेंट रखा हुआ है। एक बैंक चीफ ने बताया, ‘नोटबंदी के बाद कई कस्टमर्स ने पुरानी करेंसी से कर्ज चुकता कर दिया। लोग अभी लोन नहीं लेना चाहते। इसलिए लोन ग्रोथ सुस्त पड़ गई हैजबकि बैंकों के पास फंड की कोई कमी नहीं है।
- आरबीआई के डेटा के मुताबिक, इस साल 1 अप्रैल से 9 दिसंबर के बीच बैंकों की लोन ग्रोथ 1.2 पर्सेंट बढ़कर 73 लाख करोड़ रुपये रही, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह 6.2 पर्सेंट बढ़कर 69.6 लाख करोड़ रुपये रही थी। वहीं, डिपॉजिट 13.6 पर्सेंट बढ़कर 105.9 लाख करोड़ रुपये हो गया। यह पिछले साल की इसी अवधि में 7 पर्सेंट बढ़कर 91.8 लाख करोड़ रुपये रहा था। ऊपर जिस बैंक चीफ का जिक्र किया गया है, उन्होंने बताया, ‘फाइनैंस मिनिस्ट्री इन्वेस्टमेंट को बढ़ावा देने के लिए बैंकों से बात कर रही है।
loading...
Post A Comment
  • Blogger Comment using Blogger
  • Facebook Comment using Facebook
  • Disqus Comment using Disqus

No comments :